कंप्यूटर में डिवाइस ड्राइवर्स क्या होता है और यह कितने प्रकार के होते हैं।

जैसा कि हम सभी लोग जानते हैं , कि आज के इस आधुनिक समय में कंप्यूटर का इस्तेमाल अब आमतौर पर सभी क्षेत्रों में किया जाता है। ऐसे में लोग कंप्यूटर का इस्तेमाल तो करते हैं।

मगर कंप्यूटर के कुछ ऐसे मुख्य भाग होते हैं , जिनको हम रोजमर्रा की जिंदगी में या तो लोगों की जुबान से या अपने कंप्यूटर के प्रयोग के दौरान देखते हैं।

अगर हम कंप्यूटर के कुछ मुख्य भाग के बारे में जानते नहीं हैं या फिर जानना चाहते ही नहीं है।यदि हम कंप्यूटर के इस्तेमाल के साथ साथ हम उसके कुछ मुख्य और महत्वपूर्ण भागों के बारे में जाने तो यह हमारे लिए ही बहुत अच्छी और आवश्यक जानकारी के रूप में कार्य कर सकती है।

आज हम इस लेख के माध्यम से आपको कंप्यूटर के अंदर डिवाइस ड्राइवर क्या होता है और यह कितने प्रकार के होते हैं , इनके बारे में बताने का प्रयास करने वाले हैं। यदि आप भी यह रोचक एवं महत्वपूर्ण जानकारी को जानना चाहते हैं , तो हमारे इस लेख को अंतिम तक अवश्य पढ़ें।

कंप्यूटर डिवाइस ड्राइवर्स क्या होता है ?

कंप्यूटर के अंदर आपको बहुत से मुख्य एवं आवश्यक भाग देखने को मिल जाते हैं , जिनके बिना कंप्यूटर को इस्तेमाल करना बिल्कुल असंभव के बराबर हो जाता है। ऐसे ही कंप्यूटर के मुख्य भागों में device driver होता है । इसे हम डिवाइस ड्राइवर्स या हार्डवेयर ड्राइवर्स भी कह सकते हैं।

आपने देखा होगा या महसूस किया होगा कि जब हम कंप्यूटर को मार्केट से पहली बार खरीदते हैं या फिर किसी से सेकंड हैंड ग्रुप में खरीदते हैं , तो वह अपने सभी प्रकार के डाटा को डिलीट कर देता है और कंप्यूटर एकदम खाली होता है।

कंप्यूटर में डिवाइस ड्राइवर्स क्या होता है और यह कितने प्रकार के होते हैं।

ऐसे में आपको कंप्यूटर को अपने लिए इस्तेमाल में लेने से पहले कंप्यूटर के अंदर आपको कुछ डिवाइस ड्राइवर को इंस्टॉल करना होता है।इसको हम इसलिए इंस्टॉल करते हैं , क्योंकि हम कंप्यूटर के अंदर कई प्रकार के अपने कार्य अनुसार सॉफ्टवेयर या अन्य डाटा को संरक्षित करते हैं और इन्हीं सभी को सुचारू रूप से कार्य करने के लिए डिवाइस ड्राइवर्स का सहारा लिया जाता है।

डिवाइस ड्राइवर्स या हार्डवेयर ड्राइवर्स कंप्यूटर को चलाने में आपको सहायता प्रदान करते हैं।एक प्रकार का ऐसा सॉफ्टवेयर होता है , जो कंप्यूटर को हार्डवेयर से ऑपरेटिंग सिस्टम के साथ कम्युनिकेट करने में सहायता प्रदान करता है।

आप इसी ड्राइवर्स के सहायता से अपने कंप्यूटर को बहुत ही आसानी से और सही प्रकार से इस्तेमाल में ले सकते हैं , फिर चाहे कितने भी आप इसमें अपने अनुसार सॉफ्टवेयर इंस्टॉल करें या कोई अन्य प्रकार के डाटा को संरक्षित करें आपको कोई भी प्रकार की परेशानी नहीं होती है।

कंप्यूटर डिवाइस ड्राइवर्स कितने प्रकार के होते हैं ?

कंप्यूटर के अंदर मुख्य रूप से तीन प्रकार के डिवाइस ड्राइवर्स मौजूद होते हैं , जिनकी सहायता से आप कंप्यूटर को अच्छे तरीके से या सुचारू रूप से प्रयोग में ले सकते हैं।

बिना इन तीन प्रकार के मुख्य डिवाइस ड्राइवर्स के आप कंप्यूटर को अपने इस्तेमाल में नहीं ले सकते हैं। जानते हैं , वह तीन प्रकार के कौन मुख्य डिवाइस ड्राइवर्स होते हैं।

1 . Virtual drivers :-

यह ड्राइवर अन्य डायवर्स के मुकाबले उनसे अलग होते हैं जहां पर ड्राइवर्स की मिलिट्री ज्यादा होती है और हार्डवेयर के पार्ट्स को एक पार्टिकुलर्स ऑपरेटिंग सिस्टम के साथ कार्य करने के लिए अलाउ करता है।

2 . Motherboard drivers :-

मदरबोर्ड ड्राइवर्स एक ऐसे छोटे प्रोग्राम होते हैं , जिन्हें केवल विंडो या लिनक्स के द्वारा ही रीड किया जाता है। यह ड्राइवर्स कंप्यूटर के अंदर साधारण कार्यों को करने के लिए अलाउ करता है।

3 . Bios :-

यह एक प्रकार का मोस्ट बेसिक कंप्यूटर ड्राइवर्स होता है। इसको फर्स्ट प्रोग्राम के हिसाब से डिजाइन किया जाता है। जब भी किसी पीसी को टर्न ऑफ किया जाता है , तो वह बूस्ट हो जाता है। BIOS drivers को मेमोरी में इंस्टॉल किया जाता है , जोकि मदरबोर्ड में बिल्ड होता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *