Category Archives: Online Hindi Tips

Telegram क्या है? || Telegram पर Account कैसे बनायें?

Telegram क्या है?:- आप सभी जानते ही होंगे कि जब भी Massanging App की बात होती है तो वहाँ पर Whataspp के सामने कोई भी App नही टिकता है। वही फ़ोटो के लिए Instagram है। लेकिन फिर भी Talegram अपनी जगह बनाए हुए है।

Whatsapp,Facebook, Twitter और Instagram जैसे काफी Popular Social Media Platform के बीच मे Telegram अपनी एक अलग पहचान के साथ बना हुआ है।

तभी तो यह App दुनियाँ के 50 देशों की Playstore में No.1 App है। लेकिन ऐसा क्या है Telegram में जो कई Apps होने के बावजूद भी Telegram को Use करते हैं।

आज हम यही बात जानेंगे। साथ मे यह भी जानेंगे कि Telegram में अपना Account कैसे बनायें

Telegram क्या है?

Telegram एक Messaging App जिसको रूस में रहने वाले दो भाइयों ने बनाया था। इसे 2013 में Android और IOS के लिए Launch किया गया था।

Telegram के वक्त कई App आए और ज्यादा Popular न होने के कारण चले भी गए लेकिन Telegram दिनोदिन अधिक Popular होता गया।

आज दुनियाँ भर में करीब 10 करोड़ से भी ज्यादा बार Telegram Download हो चुका है। इससे इस App की Popularity का अंदाजा साफ पता चलता है।

Features Of Telegram.

प्रश्न यह उठता है कि आखिर इस App में ऐसी क्या खास बात है जो Whatsapp से तगड़ा Compitition मिलने के बाद भी खड़ा हुआ है।

जबकि आज के वक़्त में Whatsaap को टक्कर देने वाला उसी की तरह का दूसरा कोई App नही नजर आता है। तो इसका जवाब है Telegram के Features.

Telegram में कुछ ऐसे Features हैं जो इसको Whatsapp,Facebook Massanger जैसे तमाम App से अलग बना देता है।

तो चलिए जानते हैं क्या हैं वह Features.

  • Telegram में आप 1GB की File किसी को भेज सकते हैं जबकि बाकी दूसरे App से ऐसा करना Possible नही है।
  • Telegram की एक खास बात यह है कि आप इसमे Multiple Account बना सकते हैं, जबकि Whatsapp में आपको ऐसी कोई सुविधा नही मिलती है।
  • Telegram की तीसरी सबसे खास बात है, कि यह Security को बहुत अहमियत देता है। यदि आप नही चाहते हैं कि आपकी किसी से की गई Chat कोई देखे तो Secret Chat का Option भी दे रखा है।
  • Telegram को आप Mobile के साथ साथ डेस्कटॉप पर भी चला सकते हैं। इस App की खास बात है कि आपके द्वारा Type किया जाने वाला Massage Draft में save रहेगा, जबतक कि आप उसे Send न कर देंगे।
  • यदि आपने कुछ ऐसा Massage भेज दिया जो आप नही भेजना चाहते थे तो इसमें उस Massage को Edit भी किया जा सकता है जबकि Whatsapp में ऐसा कोई Feature नही है।
  • इस App की खास बात यह है कि आप अपने Account पर Phone Number बदल सकते हैं। इससे आपका Account बंद नही होगा।

Telegram पर Account कैसे बनायें?

इतनी सारी विशेषताओं के बाद हर कोई चाहता है कि उसके पास भी Telegram App हो। खासकर Large File Share करने के लिए यह App तो बहुत काम आता है।

तो चलिए देर न करते हुए जानते हैं कि Telegram पर Account कैसे बनाते हैं.

  • सबसे पहले आपके फ़ोन में App Install होना चाहिए। यदि App Install नही है तो Google Play Store में जाकर Telegram Search करें और App को Download कर लें।
  • App Download हो जाने के बाद अब Telegram को Login करें। Login करते ही आपको Start Massaging का विकल्प दिखेगा, इस पर क्लिक करना है।
  • अब आपको अपनी Country और साथ मे वह नंबर डालना है, जिस पर आप Telegram का Account बनाना चाहते हैं।
  • Number डालने के बाद Right tick पर click कर दें। अब आपके नंबर पर एक OTP आएगा, उसे डाल दें।
  • OTP Number डालने के बाद अब आपका नाम डालने का विकल्प आएगा। यहाँ पर आपको नाम डालना है। नाम डालने के साथ ही Done कर दें।
  • इस तरह से आपका Telegram Account बनकर Ready हो चुका है। अब आप इसे Mobile या PC में चला सकते हैं।

Telegram में New Group कैसे बनाएं? 

  • Telegram पर नया Group बनाना बहुत आसान है। जब आप Telegram Open करते हैं तो आपको ऊपर की तरफ बायीं ओर 3 lines दिखाई देगी, आपको उन्हें चुनना है।
  • यहां पर आपको सबसे ऊपर New Group का Option दिखेगा। इसे चुनना है।
  • जैसे ही आप इस Option को select करेंगे ठीक उसके बाद आपके Contact list में save Name दिखाई देने लगेंगे। आप किसी का भी नाम Search करके Add कर सकते हैं, बस वह Telegram Use करता हो।
  • इसके बाद आपको अपने Group का एक नाम डालना है और फिर Group Discription. इसके बाद आपका Group बनकर तैयार हो चुका है।
  • अब आप अपने Group में किसी भी Add कर सकते हैं। किसी भी Group से Remove भी कर सकते हैं। शुरुआत में Power आपके पास होगी क्योंकि आप Admin है लेकिन आप चाहे तो किसी और को भी Admin बना सकते हैं ।

इस तरह से Telegram को Enjoy कर सकते हैं।

अपने स्मार्टफोन का इंटरनल स्टोरेज कैसे बढ़ाए।

यदि आप स्मार्टफोन के यूजर हैं , तो आप सभी प्रकार के ऐप्स चलाना और गेम खेलना आपको काफी ही पसंद होगा। यदि आपके स्मार्ट फोन की स्टोरेज क्षमता ज्यादा कम है तो आप अपने मनपसंद गेम्स और एप्स को नहीं चला सकते हैं। यदि आपका स्टोरेज क्षमता फुल हो जाता है , तो हमारा फोन हैंग करने लगता है। हमारा फोन हैंग होने के साथ-साथ उसमें एक मैसेज ( insufficient storage ) आने लगता है।

जिसकी वजह से हम आपने फेवरेट एप्स को डाउनलोड नहीं कर सकते हैं। यदि आप अपने स्मार्टफोन के इंटरनल स्टोरेज को बढ़ाना चाहते हैं तो आप हमारे इस महत्वपूर्ण लेख को अंत तक अवश्य पढ़ें।

हमारे इस लेख को पढ़कर आप अपने स्मार्टफोन के इंटरनल स्टोरेज को काफी हद तक सुधार सकते हैं।

स्मार्ट फोन का इंटरनल स्टोरेज भर जाने का क्या कारण है ? ( What is reason to fill our internal storage of smartphone in Hindi )

हमारे स्मार्टफोन के इंटरनल स्टोरेज घर जाने के कई सारे कारण हो सकते हैं , जैसे कि :- अपने स्मार्टफोन में बहुत सारे एप्स को इंस्टॉल करना , अपने स्मार्टफोन के इंटरनल स्टोरेज में फाइलों को सेव करना , cache files को डिलीट नहीं करना इत्यादि कारणों से हमारे स्मार्टफोन के internal storage की क्षमता भर जाती है। जिसके द्वारा हमारा स्मार्टफोन हैंग करने लगता है।

जब हमारा स्मार्ट फोन हैंग करने लगता है , तब हमें बहुत सारी परेशानियों सेनहीं पड़ती है।

अपने स्मार्टफोन में इंटरनल स्टोरेज कैसे बढ़ाएं ? ( How to increase internal storage of our smartphone in Hindi )

  • यदि आप स्मार्टफोन के internal storage को increase करना चाहते हैं, तो आपको अपने स्मार्टफोन को समय-समय पर बैकअप करना होगा। यदि आपका डाटा आपके एसडी कार्ड या फिर इंटरनल स्टोरेज में होता है तो बैकअप के समय में आपका सारा डाटा डिलीट हो जाता है और आपका स्मार्टफोन फिर से बहुत ही अच्छी तरीके से चलना शुरू हो जाता है।
  • यदि आप आपने मोबाइल फोन के मेमोरी कार्ड को इंटरनल स्टोरेज की तरह यूज करना चाहते हैं तो आपको अपने स्मार्टफोन को मोबाइल बुक करना बहुत ही जरूरी हो जाता है। इस प्रोसेस में आपको ऐप को रूट परमिशन देनी होती है , जो कि मोबाइल रूट होने के बाद ही मिल सकती है। यदि आपका मोबाइल रूट नहीं होता है तो आपको अपने मोबाइल को रूट करने के बाद ही आप आगे के प्रोसेस को फॉलो करें।
  • अपने स्मार्टफोन के इंटरनल स्टोरेज को बढ़ाने के लिए आपको link2sd नामक ऐप को इंस्टॉल करना होगा इंस्टॉल करने के बाद है , आप अपने स्मार्टफोन की इंटरनल स्टोरेज बढ़ा सकते हैं।
  • इस ऐप को डाउनलोड करने के बाद आपको प्रत्येक एक्सेस को allow कर देना होता है। allow करने के बाद आपको इस ऐप को activate कर देना होता है।
  • इस ऐप को एक्टिव करने के बाद आपके स्मार्टफोन की स्टोरेज क्षमता increase हो जाता है।

SMPS क्या होता है और जानिए SMPS की पूरी जानकारी ।

हम आपको इस post में बताने वाले हैं , कि smps क्या होता है , इस smps की जानकारी क्या है और smps के Advantage और Disadvantage के बारे में भी हम आपको बताने वाले हैं ।

यदि आप smps के बारे में कोई जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं , तो हमारे इस important write को last तक अवश्य पढ़ें। आप इस last के माध्यम से smps की सारी information प्राप्त कर सकते हैं।

SMPS क्या होता है ? ( What is SMPS )

जैसा कि हम जानते हैं , किसी भी प्रकार के machine को चलाने के लिए हमें power supply की जरूरत पड़ती है , कुछ ऐसी machine होती है , जो ऐसी power supply से चलती है और कुछ ऐसी machine होती हैं , जिन्हें DC Power की जरूरत होती है।

अक्सर घरों में एसी power होती है , जिससे हम अपने computers को नहीं चला सकते हैं , इसके लिए हमें जरूरत पड़ती है। smps एक power convorter होता है। smps एसी power को डीसी Power में convert कर देता है।

इसका फुल फॉर्म switched mode power supply ( स्विचड मोड पावर सप्लाई ) होता है। हर वो device जो men supply से power लेकर उसके electricity को DC power में convert करके आपके electric device तक पहुंचाते हैं , इसी device को smps कहा जाता है।

ज्यादातर वह computer जो DC power से चलती है। वो Dc power में convert करने के लिए smps का उपयोग किया जाता है।

SMPS के Advantages क्या है ? ( Advantage of SMPS in Hindi )

  1. यह size में बहुत ही छोटे होते है।
  2. इन्हें आप जहां चाहे वहां बड़ी ही आसानी से रख सकते हैं।
  3. इनका weight भी बहुत कम होता है।
  4. इसकी सबसे अच्छी power efficiency होती है।
  5. इनका out put renge बहुत ही अच्छा होता है।
  6. यह बहुत ही कम heat होते हैं।

SMPS के disadvantage क्या है ? ( What is SMPS disadvantage in Hindi )

  1. यहकेवल step down regular की तरह ही कार्य करता है।
  2. इसमें केवल एक ही out put voltage होता है।
  3. SMPS के function बहुत ही ज्यादा जटिल होते हैं।
  4. इसमें बहुत ही ज्यादा high frequency का electricity noice उत्पन्न होता है।
  5. यह कभी कभी harmonics distortion का कारण भी बन सकता है।

बिटकॉइन क्या है ? बिटकॉइन के लाभ

बिटकॉइन का परिचय किसी भी प्रकार के लेनदेन के लिए मुद्रा की आवश्यकता पड़ती है जैसे-डॉलर,रुपया और अन्य। बिटकॉइन ऐसी ही एक बर्चुअल मुद्रा है,लेकिन इसकी खाशियत ये है कि इसे सिर्फ डिजिटल लेनदेन में प्रयोग किया जा सकता है,इसका कोई आकार,कोई आकृति नही है इसे सिक्के का रूप नही दिया जा सकता,यह सिर्फ डिजिटल धन है जिसे आप इंटरनेट की सहायता से इधर से उधर भेज सकते हो।

बैसे तो दुनियाभर में इसका प्रसार है लेकिन भारत मे बिटकॉइन ज्यादातर चीन के द्वारा अत्यधिक प्रयुक्त किया जाता है।

बिटकॉइन क्या है

इसे सिर्फ आप अपने डिजिटल अकॉउंट में ही रख सकते है, इंटरनेशनल स्तर पर ज्यादा तर लोग किसी व्यवसायिक माध्यम से पैसे कमाते है तो बिटकॉइन में कलेक्ट करते है,बिटकॉइन आपको पॉइंट्स के रूप में आपके बने वॉलेट में दिए जाते है,जिसे अपने अनुसार किसी भी देश की मुद्रा में बदला जा सकता है

इसका अविष्कार जपान में सन 2008 में सातोशी नकामोतो नामक एक व्यक्ति ने किया था और 2009 में इसे एक सॉफ्टवेयर के माध्यम से जारी किया गया।

जब इसका अविष्कार हुआ था तब यह इतनी पापुलर नही थी लेकिन बक्त के साथ जहां दुनिया डिजिटल की ओर तेजी से अग्रसर है इसी कारण इसका क्रेज दुनिया भर में हो गया,आज कल डिजिटल युग के समय मे इस मुद्रा ने दुनिया भर में अपनी एक पहचान बनाई है।तो आइए जानते है भारत मे बिटकॉइन की कीमत।

भारत मे इसकी कीमत

भारत मे भी बिटकॉइन के लिए लोगो मे अत्यधिक चाह है इसकी एक बजह ये भी हो सकती है कि 1 बिटकॉइन की भारत मे कीमत 7,28,355 रुपय के लगभग है।

हा अगर आपके पास 1 बिटकॉइन भी है तो आप भारत मे लाखो के मालिक हो जाएंगे,हालांकि यह नही कहा जा सकता कि यह इसकी निश्चित कीमत है बल्कि इसकी कीमत में लगातार उतार-चढ़ाव आते ही रहते है।

बिटकॉइन के लाभ

चूंकि बिटकॉइन की कोई तय कीमत नही है इसलिए अगर आप इसे इसके निचले स्तर पर खरीद ले और इंतजार के बाद उच्च स्तर आने पर बेंच दे तो आपको बहुत लाभ हो सकता है,यह एक इंटरनेशनल मुद्रा है तो आप इसे अपने इंटरनेशनल व्यवसाय में प्रयोग कर सकते है।

अगर आप अपना पैसा दूसरे देश से मंगाना चाहते है तो इसे प्रयोग कर अपने देश मे अपनी मुद्रा के अनुसार परिवर्तित कर सकते है।बिटकॉइन को आप शेयर के तरीके से व्यापारिक युक्ति से अपने फायदे और नुकशान के हिसाब से खरीद और बेंच भी सकते है।

जहां दुनिया मे क्रेडिट और डेविट कार्ड पर शॉपिंग करने पर कुछ प्रतिशत चार्ज देना पड़ता है,वही आप बिटकॉइन से इंटरनेशनल स्तर पर खरीददारी कर सकते है बिना किसी अतिरिक्त चार्ज के लेकिन भारत मे इस तरह की कोई शॉपिंग पर बिटकॉइन वैध नही माना जाता।

IMEI नंबर क्या होता है? IMEI नंबर कैसे पता करे।

जैसा कि आप सब जानते हो कि प्रत्येक मोबाइल फ़ोन का अपना IMEI नंबर होता है और उस IMEI नंबर के द्वारा हम खोये हुए फ़ोन का भी पता लगा सकते है।

IMEI का फुल फॉर्म International Mobile Equipment Identity होता है। जो हर फ़ोन का अलग अलग होता है तो आइए सबसे पहले जानते है IMEI नंबर होता क्या है।

IMEI नंबर क्या होता है?

जब भी आप किसी भी मोबाइल फोन को खरीदने जाते है तब आपने एक बात जरूर नोटिस की होगी कि फ़ोन के अंदर और उसके बॉक्स यानी डिब्बे पर ऊपर ही उसका IMEI नंबर लिखा हुआ होता है। IMEI नंबर बहुत ही जरूरी होता है इससे मोबाइल फ़ोन की पहचान हो जातीं है।

आप मोबाइल रिपेयर कराने को जाते हो तब भी IMEI नंबर आई जरूरत होती है , क्योकि IMEI नंबर को भी नोट किया जाता है जिससे मोबाइल की पहचान हो जाती है, और फ़ोन की सारी डिटेल्स जैसे लोकेशन, वारंटी आदि।

IMEI नंबर के फायदे

आईएमइआई नंबर की हेल्प से अगर आपका फ़ोन चोरी हो जाये तो पता लगाया जा सकता है कि फोन कहा पे है और जिसके भी पास होगा उसका डिटेल्स भी पता लगया जा सकता है। आईएमइआई नंबर की हेल्प से हम अपने चोरी हुए फ़ोन की लोकेशन का पता लगा सकते है।

आईएमइआई नंबर का उपयोग करके हम अपने फ़ोन को ट्रेस कर सकते है और चोर तक पहुच सकते है। आईएमइआई नंबर से ये पता लगाया जा सकता  है की फ़ोन में कौनसी सिम कार्ड डली हुई है और उस सिम कार्ड का नंबर भी आसानी से जाना जा सकता है।

IMEI नंबर कैसे पता करे।

IMEI नंबर पता करने के बहुत से तरीके है और इंटरनेट पर ऐसी बहुत सी वेबसाइट्स है जो आपको IMEI नंबर पता करने में मदद करती है लेकिन एक बहुत ही शानदार से तरीका आपको हम इस पोस्ट के द्वारा बताएंगे तो चलिए जल्दी से आगे बढ़ते है।

फ़ोन का IMEI नंबर पता करने के लिए आपको अपने मोबाइल फ़ोन का डायलपैड खोलना होगा उसके बाद  आपको #06 डायल करना होगा जैसे ही आप ये डायल करते है बैसे ही आपके सामने एक 15 डिजिट का नंबर शो हो जाएगा। वो 15 डिजिट का नंबर ही आपका IMEI नंबर होगा जो बिल्कुल ही यूनिक और सरल होगा।

तो दोस्तो में उम्मीद करता हु आपको हमारी ये पोस्ट पसंद आई होगी, अगर हा तो हमे कमेंट बॉक्स में कमेंट करके बताये की आपको हमारी ये पोस्ट कैसी लगी और इस पोस्ट को शेयर करना न भूले

वाईफाई कॉलिंग क्या होती है और इसे कैसे इस्तेमाल कर सकते हैं ?

जैसे जैसे दुनिया आधुनिक तकनीक की ओर बढ़ रही है वैसे-वैसे ही नई-नई चीजों का भी समय-समय पर आगमन हो रहा है। आज के समय में पढ़ती टेक्नोलॉजी ने कई क्षेत्रों में विकास के कार्य किए हुए हैं।

नई नई टेक्नालॉजी ओके विकसित होने की वजह से ही अब हर एक प्रकार के कार्य लगभग आसान और कम समय में होने लगे हैं। नई टेक्नोलॉजी की सहायता से आज मानव लगभग हर वह कार्य कर सकता है , जो पहले के समय में असंभव के रूप में जाना जाता था ।

वाईफाई कॉलिंग क्या होती है और इसे कैसे इस्तेमाल कर सकते हैं ?

दोस्तों आज हम इस लेख के माध्यम से ही आज के समय में Wi-Fi calling नामक एक नई तकनीक हम लोगों के बीच इस समय विकसित हो रही है।आज हम इस लेख के माध्यम से जानेंगे कि Wi-Fi calling की क्या नई तकनीक है और इसे कैसे इस्तेमाल में लाया जा सकता है।

अगर आप भी यह रोचक और महत्वपूर्ण जानकारी के बारे में जानने के लिए इच्छुक हैं , तो आप हमारे इस लेख को अंतिम तक अवश्य पढ़ें।

Wi-Fi calling किस प्रकार से नई तकनीक के रूप में जानी जा रही है ?

कभी ना कभी कहीं ना कहीं पर आपको जरूर अर्जेंट कॉल करते समय या तो आप का बैलेंस खत्म हो जाता है या फिर आपके फोन में कुछ समय नेटवर्क ही नहीं होता है। मगर आपको फिर भी कैसे भी करके एक अर्जेंट कॉल करना है, तो आप इसके लिए क्या करेंगे।

इन सभी चीजों को मद्देनजर रखते हुए टेलीकॉम कंपनियों ने Wi-Fi calling नामक एक नई तकनीक का निजात किया हुआ है। एक ऐसी तकनीक है , जिसके माध्यम से आप बैलेंस खत्म होने या फिर नेटवर्क ना होने की स्थिति में भी आप अपने अर्जेंट कॉल को कर सकने में कामयाब हो जाएंगे।

लगभग अब हर एक टेलीकॉम कंपनी Wi-Fi calling की सर्विस को अपने ग्राहकों को प्रदान करने लगी है।

Wi-Fi calling एक वाईफाई सर्विस होता है , जिससे आप बिना किसी नेटवर्क के भीकिसी को भी आवश्यकता पड़ने पर वीडियो या वॉइस कॉल कर सकते हैं।

इसके लिए आपको इस सर्विस को एक्टिवेट करना होगा। सर्विस का श्र लाभ उठाने के लिए अपने घर का वाईफाई या फिर कोई पब्लिक वाईफाई का भी प्रयोग कर सकते हैं।

Wi-Fi calling किस प्रकार से कर सकते हैं ?

Wi-Fi calling करने का तरीका बहुत ही आसान है।

आपको अपने फोन में जाकर कुछ महत्वपूर्ण सेटिंग को चालू करना है और फिर इसके बाद आप Wi-Fi calling की सहायता से किसी को भी फ्री में या बिना नेटवर्क के भी कॉल कर सकते हैं।

  1. यह सुविधा का लाभ उठाने के लिए सबसे पहले आपको अपने फोन के अंदर सेटिंग को ओपन कर लेना है।
  2. इसके बाद आपको अपनी मोबाइल के अंदर एक कनेक्शन नामक विकल्प दिखाई देगा , उसको क्लिक करके ओपन कर लेना है और फिर वहां पर आपको वाईफाई का ऑप्शन मिलेगा जिसे आपको इनेबल कर लेना है।
  3. अब इसके बाद आप अपने किसी भी घर के वाईफाई या पब्लिक वाईफाई को अपने स्मार्टफोन को कनेक्ट कर ले।
  4. वाईफाई वाले विकल्प के नीचे आपको एक Wi-Fi calling नाम का विकल्प दिखाई देगा , उसको भी आपको इनेबल कर लेना है।
  5. जिस प्रकार से आप अपने फोन से डायरेक्ट किसी को कॉल करते हैं , सेम उसी प्रकार से आप वाई-फाई के जरिए भी वॉइस या वीडियो कॉल कर सकते हैं।
  6. आपको जिस को कॉल करना है उस नंबर पर जाइए और नॉर्मल कॉल करना शुरू कर दीजिए , यह कॉलिंग आपकी वाईफाई माध्यम से होनी शुरू हो जाएगी।

पेटीएम के जरिए पैसों का लेनदेन कैसे करें।

जैसा कि हम सभी लोग जानते हैं , कि आज के समय में सभी चीजें ऑनलाइन हो चुकी है। अब ज्यादातर लोग अपने जेब में कैश नहीं रखते हैं , क्योंकि अब सभी चीजें कैशलेस रूप से की जाती है।

कैशलेस होने की वजह से सभी लोगों के जीवन में एक अलग बदलाव देखने को मिला है।

कैशलेस की वजह से भ्रष्टाचार जैसे बड़े बीमारी से भी काफी हद तक अब तक निजात मिलती हुई नजर आई है।

पेटीएम के जरिए पैसों का लेनदेन कैसे करें।

ऐसे में कई ऐसे एप्लीकेशन आपको मिल जाएंगे तो कैशलेस जैसी सुविधाओं को अपने ग्राहकों को प्रदान करते हैं। बस हमें और आपको इसके बारे में जाने की आवश्यकता होती है और फिर आप कैशलेस रूप से अपने आवश्यक कार्य को कर सकते हैं।

जैसा कि हम सभी लोग जानते हैं पेटीएम एक ऐसा विकल्प लोगों के बीच में उभर के आए हैं , जिसे आप कैशलेस से जुड़े सभी प्रकार के कार्यों को करने के लिए प्रयोग में ले सकते हैं।

आज हम इस लेख के माध्यम से जानेंगे , कि कैसे आप पेटीएम का प्रयोग करके कैशलेस रूप से लेनदेन कर सकते हैं।

यदि आप भी यह आवश्यक जानकारी जानना चाहते हैं , तो हमारे इस लेख को अंतिम तक अवश्य पढ़ें।

पेटीएम के जरिए पैसे को कैसे भेजें ?

  • पेटीएम के माध्यम से पैसे भेजने के लिए सर्वप्रथम आपके पास पेटीएम का अकाउंट होना आवश्यक है और यदि आपके पास इसका अकाउंट नहीं है , तो इसे आप बड़ी ही आसानी से बना सकते हैं।
  • पेटीएम से पैसे भेजने के लिए सबसे पहले आपको इसे अपने फोन में ओपन कर लेना है।
  • फिर आपको यहां पर भुगतान का विकल्प दिखाई देगा और यहां पर आपको टैब करके इसे ओपन कर लेना है।
  • यहां पर आप यूपीआई , पेटीएम मोबाइल नंबर , क्यूआर कोड स्कैनर या फिर डायरेक्ट बैंक अकाउंट में भी पैसे भेज सकते हैं। आप अपनी अनुसार किसी भी विकल्प का चयन कर सकते हैं।
  • यदि आपने यूपीआई से भुगतान करने का विकल्प चुना है तो आपको जिसे पैसे भेजने हैं , उससे उसका यूपीआई मांगना है और फिर यहां पर उसका यूपीआई दर्ज करना है।
  • यूपीआई दर्ज करने के बाद यह वेरिफिकेशन करेगा और वेरिफिकेशन होने के बाद आपके सामने पेमेंट करने का विकल्प खुल कर आ जाएगा।
  • अब यहां पर आप अपने अनुसार पेमेंट का अमाउंट दर्ज करके रिसीव करने वाले को बड़ी ही आसानी से भेज सकते हैं।

ध्यान दें :-

पेटीएम मोबाइल नंबर या फिर डायरेक्ट बैंक में पैसे ट्रांसफर करने का तरीका थोड़ा बहुत अलग है , बस आपको थोड़ा ध्यान देकर अपना पेमेंट कंप्लीट करना होगा।

पेटीएम के जरिए किसी और से पैसे किस प्रकार से प्राप्त करते हैं ?

  1. पेटीएम के जरिए किसी से पैसे लेने के लिए आपको यहां पर आपका अकाउंट होना महत्वपूर्ण है।
  2. यदि आप किसी से पेटीएम के जरिए पैसे लेना चाहते हैं , तो आप यूपीआई , पेटीएम रजिस्टर नंबर , क्यूआर कोड स्कैनर या डायरेक्ट अपने बैंक में भी पैसे प्राप्त कर सकते हैं।
  3. आप इनमें से दिए गए किसी भी विकल्प का चयन करके बड़ी ही आसानी से पैसे प्राप्त कर सकते हैं।
  4. यदि आप क्यूआर कोड स्कैनर के माध्यम से पैसे प्राप्त करना चाहते हैं , तो आपको केवल यहां पर अपना पेटीएम में से आपका क्यूआर कोड भुगतान करने वाले व्यक्ति को शेयर करना होगा।
  5. भुगतान करने वाला व्यक्ति इसे स्कैन करके आपके सीधे बैंक खाते में पैसे को भेज सकता है।
  6. पैसे प्राप्त होते ही आपको पेटीएम एप्लीकेशन के अंदर एक नोटिफिकेशन भी प्राप्त हो जाएगा , कि आखिरकार आपने कितने पैसे किसके माध्यम से प्राप्त किए हैं।

ध्यान दें :-

पैसे लेने और देने के सभी प्रकार के विकल्पों के माध्यम से आप पैसे को प्राप्त भी कर सकते हैं और इसे दूसरे को भेज भी सकते हैं।

गूगल प्ले स्टोर की आईडी कैसे बनाते हैं ?

जैसा कि हम सभी लोग जानते हैं , कि आज का जमाना स्मार्टफोन वाला है और अब ज्यादातर लोगों के पास आपको स्मार्टफोन देखने को मिल जाता है।

आज के समय के स्मार्टफोन के जरिए से आप घर बैठे ही लगभग सभी प्रकार के ऑनलाइन कार्यों को बड़ी ही आसानी से कर सकते हैं और यही कारण है , कि इसकी प्रसिद्धि दिन प्रतिदिन बढ़ती जा रही है।

वहीं पर स्मार्टफोन को और भी बेहतरीन सुविधाओं से लैस करने के लिए गूगल ने भी अपना गूगल प्ले स्टोर लोगों के लिए दे रखा है।

गूगल प्ले स्टोर अपने ग्राहकों के लिए फ्री में सभी प्रकार की सेवाओं को लगभग उपलब्ध कराता है और गूगल प्ले स्टोर पहले से ही आपके स्मार्टफोन में मौजूद होता है।

गूगल प्ले स्टोर क्या है और इसे किस लिए इस्तेमाल किया जाता है ?

गूगल प्ले स्टोर एक ऐसी सर्विस है , जो सभी प्रकार के स्मार्टफोन उपभोक्ताओं को गूगल द्वारा प्रदान किया जाता है।

आप गूगल प्ले स्टोर का प्रयोग करके फ्री में और कुछ शुल्क प्रदान करके अपने अनुसार या अपनी मनचाही किसी भी एप्लीकेशन को यहां से बड़ी ही आसानी से डाउनलोड कर सकते हैं।

खासतौर से इसी की वजह से ही स्मार्ट फोन में ज्यादातर लोग अपने अनुसार एप्लीकेशन को डाउनलोड करके कार्य करते हैं।

गूगल प्ले स्टोर की आईडी को कैसे बनाते हैं ?

प्ले स्टोर की आईडी बनाने के लिए आपको नीचे कुछ ने आसान उसके बताए हैं , जिन्हें आप फॉलो करके अपना आईडी बना सकते हैं।

Step .1 सबसे पहले आप अपने स्मार्टफोन में मौजूद प्ले स्टोर की एप्लीकेशन को ओपन कर ले और फिर यहां पर आपको एक साइन इन का विकल्प दिखाई देगा इस पर आपको क्लिक करना होगा।

Step .2 अब आपको यहां पर क्रिएट का विकल्प दिखाई देगा इस पर आपको क्लिक कर लेना है अब यहां पर आपसे आपका फर्स्ट नेम और लास्ट नेम मांगेगा आप अपने अनुसार यहां पर अपने नाम का चयन कर सकते हैं।

अब अपने अनुसार नाम का चयन करने के बाद नेक्स्ट वाले बटन पर क्लिक कर देना है।

Step .3 अब आपको यहां पर कुछ आपके फर्स्ट नेम और लास्ट नेम के अनुसार ईमेल आईडी बनाने के लिए दो प्रकार की सजेशन देगा आप इनमें से किसी भी ईमेल आईडी का चयन कर सकते हैं और फिर नेक्स्ट वाले विकल्प पर क्लिक कर दें।

Step .4 अब आपको यहां पर कम से कम 8 अक्षरों वाला एक स्ट्रांग पासवर्ड बनाना है और ध्यान रखें , कि यह पासवर्ड आपको हमेशा याद रहना चाहिए।अब आपसे कुछ परमिशन मांगेगा जिसे आपको यस कर देना है और इतना करने के बाद आपका प्ले स्टोर अकाउंट बन जाएगा

ध्यान दें :

यदि आपके पास पहले से ईमेल आईडी और पासवर्ड है तो आप डायरेक्ट प्ले स्टोर आईडी में अपना ईमेल आईडी और पासवर्ड के जरिए लॉगिन कर सकते हैं।

मोबाइल में फेस लॉक कैसे लगाते हैं।

आज के समय में स्मार्टफोन की उपयोगिता दिन प्रतिदिन बढ़ती जा रही है। ऐसे में कई प्रकार के स्मार्टफोन निर्माता कंपनियां अपने ग्राहकों को लुभाने के लिए कई प्रकार के आकर्षित कर देने वाले फीचर को अपने फोन के अंदर लगा कर देते हैं।

जितने अधिक स्मार्टफोन और भी पहले से स्मार्ट होते जा रहे हैं , उतने ही अत्यधिक सिक्योरिटी फीचर भी आपको नए-नए फोन में देखने को मिल जाते हैं।

पहले के समय में स्मार्टफोन पैटर्न और पिन सहायता से अनलॉक किया करते थे लोग।

अगर आज के सर में सभी स्मार्टफोन को फिंगरप्रिंट और फेस अनलॉक जैसे बड़े फीचर की सहायता से आप अपने फीचर फोन को और भी स्मार्ट बनाने में सक्षम हो गए हैं।

आज हम इस लेख के माध्यम से जानेंगे कि अपने स्मार्टफोन में कैसे फेस अनलॉक जैसे फीचर को ऐड कर सकते हैं।

फेस अनलॉक क्या है ?

जैसे पुराने समय के स्मार्टफोन में पैटर्न और पिन की सहायता से अपने फोन को अनलॉक किया जाता था , वैसे ही अब फेस अनलॉक की सहायता से अपने फोन को अनलॉक किया जा सकता है।

फेस अनलॉक एक ऐसा फीचर होता है , जो अपने यूजर के पेज को पहचान कर उसे फोन को अनलॉक करने में सहायता करता है। जब स्मार्टफोन यूजर अपने फोन को अपने चेहरे के सामने लाता है , तो उसका फोन ऑटोमेटिक अनलॉक हो जाता है।

फेस अनलॉक अपने फोन में कैसे लगाते हैं ?

यदि आप अपने स्मार्टफोन में फेस अनलॉक जैसे सिक्योरिटी फीचर को ऐड करना चाहते हैं , तो हमने कुछ नीचे आसान स्टेप बताएं हैं , जिनका आप अनुसरण करके इस फीचर्स को आसानी से ऐड कर सकते हैं।

Step .1 सबसे पहले आपको अपने फोन की सेटिंग को ओपन कर लेना है।

Step .2 सेटिंग में जाने के बाद आपको सिक्योरिटी वाला एक विकल्प दिखाई देगा उसको क्लिक करना होगा।

Step .3 अब आपको यहां पर एक एडवांस सिक्योरिटी का विकल्प दिखाई देगा अब आपको इस पर क्लिक करना है और ट्रस्ट एजेंट पर भी क्लिक करना होगा।

यहां पर आपको स्मार्ट लॉक का भी विकल्प दिखाई देगा इसको आपको इनेबल कर देना है और वापस आपको सिक्योरिटी में आ जाना है।

Step .4 अब आपको यहां पर सिक्योरिटी स्क्रीन लॉक दिखाई देगा इस पर क्लिक करना है और कोई भी लॉक , स्क्रीन , पासवर्ड , पैटर्न या आदि को इनेबल कर लेना है ।

Step .5 अब यहां पर जो भी अपने स्क्रीन लॉक लगाया होगा उसे इंटर करने के बाद नेक्स्ट पर क्लिक करें।

Step .6 अगले पेज पर आपको व्हाट इज ए स्मार्ट लॉक (what is smart lock ) दिखाई देगा , इस पर आपको गोट इट (got it) वाले विकल्प पर क्लिक करना होगा।

Step .7 आपको यहां पर चार विकल्प दिखाई देंगे इसमें आपको ट्रस्टेड फेस वाले विकल्प पर क्लिक करना होगा।

Step .8 अब यहां पर आपको नेक्स्ट , सेट अप नेक्स्ट पेज पर जाना होगा।

Step .9 अब यहां पर आपको अपने चेहरे को स्कैन करना है , जब आपका चेहरा पूरा स्कैन हो जाए तो नेक्स्ट वाले विकल्प पर क्लिक करके।

Step .10 अब आपको ऑल सेट वाले विकल्प पर क्लिक करना है , उसके बाद ओके कर देना है। अब आप अपना फेस अनलॉक वाला फीचर ऑन कर चुके होंगे और आप चाहे , तो इसे एक बार चेक भी कर सकते हैं ।